HelloDharNews

HelloDharNews Hindi news Website, Daily Public News, political, crime,filmy, Media News,Helth News

Breaking

Tuesday, 16 July 2019

प्रत्येक व्यक्ति के जीवन मे गुरू का होना आवष्यक हे- मनीष पुष्कले

प्रत्येक व्यक्ति के जीवन मे गुरू का होना आवष्यक हे-  मनीष पुष्कले

संजय शर्मा 
हैलो धार पत्रिका 
            धार-संस्कृति संचालनालय मध्य प्रदेश शासन भोपाल के सौजन्य से गुरु पूर्णिमा के अवसर पर चित्रकला प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण  एवं व्याख्यान का आयोजन घोड़ा चैपाटी पर स्थित शासकीय ललित कला महाविद्यालय, धार परिसर में आयोजित किया गया  जिसमे अंतर्राष्ट्रीय चित्रकार व मुख्य वक्ता मनीष पुष्कले नईदिल्ली ने कहा कि धार जिले का कला और संस्कृती का अटुट सम्बन्ध हे यहां पर कला के क्षेत्र मे अनेक कलाकारो ने अपना नाम गौरवान्वित किया हे आज जिले मे कला के अनेक साधक गुरू के रूप मे रहते हे जो अपनी विधाओ के माध्यम से षिष्यो को ज्ञान का प्रकाश  देते हे प्रत्येक व्यक्ति के जीवन मे गुरू का होना आवष्यक हे कार्यक्रम मे विषिष्ट अतिथी विधायक धार  श्रीमती नीना वर्मा ने अपने उद्बोधन मे कहा कि गुरू षिष्य परम्परा से प्रत्येक व्यक्ति को शिष्य के रूप मे कुछ नया सीखने को मिलता हे जिससे उसकी कला मे निपुणता आती हे। 
                कार्यक्रम के आरम्भ मे मुख्य अतिथी श्रीमती नीना वर्मा, अंतर्राष्ट्रीय चित्रकार व मुख्य वक्ता श्री मनीष पुष्कले विषेष अतिथी जिला कोषालय अधिकारी श्री लोकेन्द्रसिंह चैधरी पुर्व सहायक संचालक शिक्षा जयंत जोशी ,श्रीमती अमिता वाजपेई प्राचार्य बालक हाईस्कुल सहित अतिथीयो ने माॅं सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया ।
                     इस अवसर पर चित्रकला प्रतियोगिता के जूनियर वर्ग मे भक्ति पोरवल,अलंकृति दूबे किशीका अहिरवाल अषोक निनामा इषिता त्रिवेदी प्रथम द्वितीय व तृतीय पुरस्कार व सीनियर वर्ग मे प्रिया सोलंकी राम लखन बैरवा अभिराज कराले दक्ष सिंह राठौर को प्रशस्ती पत्र व प्रतिक चिन्ह देकर सम्मानित किया। अतिथीयो का स्वागत ललित कला महाविद्यालय की प्राचार्य श्रीमती कांति तिर्की महाविद्यालय के भुपेन्द्रसिंह चौहान नवीनीत लोकरे पवन टाकोलिया श्रीमती नंदीनी खरमले ने शाल श्रीफल व पुष्पगुच्छ भेट कर स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन प्रेमकुमार सिकरवार ने किया तथा आभार प्राचार्य श्रीमती कांति तीर्की ने माना ।   

No comments:

Post a Comment