HelloDharNews

HelloDharNews Hindi news Website, Daily Public News, political, crime,filmy, Media News,Helth News

Breaking

Tuesday, 20 March 2018

बाजार के अनुकूल फल सब्जी की खेती करें तो लाभकारी होगी - ईश्वर लाल पाटीदार

बाजार के अनुकूल फल सब्जी की खेती करें तो लाभकारी होगी - ईश्वर लाल पाटीदार

दो दिवसीय जिला स्तरीय उद्यानिकी प्रदर्शनी  एवं कृषक सम्मेलन
 ईश्वर लाल पाटीदार

संजय शर्मा संपादक हैलो-धार
     धार - एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजनान्तर्गत  दो दिवसीय जिला स्तरीय कार्यशाला का शुभारंभ कृषि विज्ञान केन्द्र धार में किया गया, जिसमें जिले के समस्त विकासखण्डों से 350 से अधिक कृषकों ने भाग लिया । 
         मुख्य अतिथि के रूप  ईश्वरलाल पाटीदार, अध्यक्ष राज्य कृषि आयोग, भोपाल ने कृषकों से खुद के द्वारा की जा रही उन्नत फल एवं सब्जी की वैज्ञानिक तरीकों के बारे में अपने विचार व्यक्त किये साथ ही सुझाव दिया कि समय पर एवं बाजार के अनुकूल फल सब्जी की खेती करें। कृषि आय को दोगुनी करने हेतु आवश्यकत रणनीति बनाने पर जोर दिया।
     विषिष्ट अतिथि के रूप में राजीव यादव जिला सहकारी केंद्रीय बैंक अध्यक्ष ने कृषकों से आह्वान किया कि कृषक भाई खेती में कम लागत अधिक उत्पादन तकनीकी पर जोर दें एवं कृषि में कम लागत अधिक उत्पादन एवं बाजार व्यवस्था के अनुरुप खेती करने की सलाह दी। साथ ही जैविक खेती कर मनुष्य, पौधो, जल एवं पर्यावरण बचाऐं। तथा कृषक नरवाई नही जलावे, अधिक से अधिक जैविक खेती एवं पशुपालन करे।

     अध्यक्षीय उद्बोधन में डाॅ. वी.के. स्वर्णकार, अधिष्ठाता, कृषि महाविद्यालय, इन्दौर ने स्वागत भाषण में बताया कि शासन के निर्देशानुसार यह कार्यशाला   दो दिन तक जिले के कृषकों के हित में सम्पन्न होगी जिसमें कृषकों को वैज्ञानिक तरीके से फलदार पौधों की खेती, की कीट एवं रोग प्रबंधन, जैविक खेती उच्च मूल्य वाली फल एवं सब्जी का उत्पादन मूल्य संर्वधन पाॅलीहाउस/शेटनेट हाउस की बनावट एवं विकास के बारे में  कृषि वैज्ञानिकों द्वारा बताया जायेगा। 
    कार्यक्रम के शुभारंभ में डाॅ के.एस. किराड, वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख कृषि विज्ञान केन्द्र, धार ने जिले में उद्यानिकी फसलों की संभावना एवं उच्च मूल्य वाली फल एवं सब्जियों का उत्पादन तथा प्रबंधन के संबंध में जानकारी उपलब्ध कराई। कार्यक्रम दिपक त्रिवेद, मंडल अध्यक्ष, किसान मोर्चा, नालछा उपस्थित रहे।
 तकनीकी सत्र के दौरान डाॅ. जी.एस. गाठिये फसल वैज्ञानिक ने अनार की खेती एवं जैविक खेती के बारे में प्रस्तुतिकरण दिया, डाॅ. एच.एस. ठाकुर, प्राध्यापक, कृषि महाविद्यालय, इन्दौर, ने उद्यानिकी फसलों में जैविक खेती का महत्व एवं विधियाॅ के बारे में, डाॅ. एच.एल. खपेड़ीया, सहायक प्राध्यापक, कृषि महाविद्यालय, इन्दौर ने उद्यानिकी फसलों के साथ-साथ कृषि वानीकी आज की आवष्यकता के बारे में एवं डाॅ. एस.एस. चैहान द्वारा उद्यानिकी फसलों में मिट्टी परीक्षण के महत्व पर जानकारी कृषको को दी गई । डाॅ. जे.एस. राजपूत वैज्ञानिक द्वारा उद्यानिकी फसलों में पषुओं का महत्व एवं उनके उत्पादों का उचित तरीके से प्रयोग कर उत्पादन बढ़ाने पर जोर दिया गया।  
 कार्यक्रम में  के.एस. मण्डलोई, उप संचालक, उद्यानिकी,  कमल मालवाीय एवं  छावनीया, सहायक संचालक, कृषि अपने विभाग की योजनाओं के बारे में कृषकों को अवगत कराया। 
दो दिवसीय कार्यक्रम के शुभारंभ अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र मे संचालित आदान विक्रेता हेतु देसी डिप्लोमा के 40 प्रतिभागीयों ने भाग लिया। कृषि महाविद्यालय इन्दौर से ग्रामीण कृषि कार्य अनुभव सिखने आये रावे के छात्रों ने भी भाग लिया।
उक्त कार्यशाला में कृषि विज्ञान केन्द्र, उद्यानिकी, आत्मा, कृषि अभियांत्रीकी विभाग एवं कम्पनी प्रतिनिधियों द्वारा प्रदर्शनी  लगाई गई। कार्यशाला में उद्यानिकी के क्षेत्र में अच्छा कार्य करने वाले कृषक  सीताराम निगवाल ग्राम आवलीया,  अमृतलाल चैधरी ग्राम हनुमंतीयाकाग,  दुलीचंद ग्राम भवानीखेड़ा को प्रषंसा पत्र अतिथियों द्वार वितरीत किये गये।  विभाग के अधिकारी प्रगतिशील कृषक आदि उपस्थित रहें। अधिकारियों का विशेष संयोग रहा है।
कार्यक्रम में  डी.एस.मण्डलोई, डाॅ. गुंजा वास्केल, गौरव सारस्वत,  शिवम राठौर,  जितेन्द्र नायक आदि ने सहयोग किया।

No comments:

Post a Comment