HelloDharNews

HelloDharNews Hindi news Website, Daily Public News, political, crime,filmy, Media News,Helth News

Breaking

Tuesday, 24 September 2019

अब काश्मीर में भी देश का कानून होगा लागू - जटिया

अब काश्मीर में भी देश का कानून होगा लागू - श्री जटिया

धारा 370 और 35ए को लेकर जनजागरण अभियान के माध्यम से प्रबुद्धजनों ने वक्ताओं के सुने विचार 
संजय शर्मा संपादक
हैलो धार पत्रिका
    धार- जहां हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है, वो कश्मीर हमारा है सारा का सारा है। इस नारे की जीत हुई और 5 व 6 अगस्त 19 को देश पर लगा काला धब्बे को हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गृह मंत्री अमित शाह की जोड़ी ने धारा 370 और 35ए को हटाकर इस दाग धो दिया। इसके हटते ही देश में दीवाली मनी और देश की जनता खुश हुई।
              जम्मू-कश्मीर से धारा 370, 35ए हटाने के लिए संघर्ष करते हुए देश प्रेम के लिए डा. श्यामप्रसाद मुखर्जी ने अपना बलिदान दे दिया। 1949 में निजी स्वार्थो के चलते शेख अब्दुला और नेहरू जी ने भारत से कश्मीर का विलय कर दिया और देश के संविधान की धज्जियां उड़ाते हुए जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देकर भारत से अलग किया। लगातार धारा 370 के चलते कश्मीर में आतंकवाद, अलगाववाद, परिवारवाद और भ्रष्टाचार पनपता रहा। कश्मीर में देश का शासन नहीं चला सिर्फ तीन परिवारों ने कश्मीर को लूटा।
     यह बात धारा 370 और 35ए के हटने से भारत को क्या लाभ होगा को लेकर आयोजित जनजागरण अभियान के तहत मुख्य अतिथि व  मुख्य वक्ता पूर्व केंद्रीय मंत्री सत्यनारायण जटिया ने जिला भाजपा कार्यालय में आयोजित एक संगोष्ठी के दौरान कही।
                 अध्यक्षता पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री विक्रम वर्मा ने की तथा विशेष अतिथि के रूप में सांसद छतर सिंह दरबार, भाजपा जिला अध्यक्ष डॉ. राज बर्फा,धार विधायक श्रीमती नीना वर्मा उपस्थित थे। प्रारंभ में स्वागत भाषण भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. राज बर्फा किया। कार्यक्रम के पूर्व अतिथियों द्वारा श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय व कुशाभाऊ ठाकरे के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित कर किया गया।
                अतिथि स्वागत कार्यक्रम संयोजक मनोज सोमानी, जिला महामंत्री उमेश गुप्ता आदि पदाधिकारियों ने  शाल, श्रीफल,व पुस्तक भेंट कर किया। भाजपा मीडिया प्रभारी ज्ञानेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि संगोष्ठी में श्री जटिया ने आगे कहा कि कश्मीर में इस धारा के चलते जम्मू और लद्दाख को भी दूर रखा गया। कश्मीर भारत का अभिन्न अंग, धरती का स्वर्ग था कश्मीर लेकिन आतंकवाद के चलते वहां की फिजा लगातार बिगड़ती रही। विश्व का सबसे अच्छा पर्यटन स्थल होने के साथ फिल्म उद्योग का भी केन्द्र रहा। लेकिन 370 के कारण लगातार वहां स्थिति बिगड़ती रही और सैलानियों का जाना वहां बंद हो गया। अखंड भारत के निर्माण के लिए धारा 370 का हटाना जरूरी था। भाजपा जो कहती है वह करके दिखाती है की तर्ज पर देश के प्रधानमंत्री श्री मोदी एवं गृह मंत्री अमित शाह ने इस अनहोनी को होनी में बदला और सांसदों के सहयोग से लोकसभा और राज्यसभा में इस बिल को पास करते हुए देश पर लगी कलंक की धारा 370 को हटा दिया गया।
                कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री वर्मा ने कहा कि हम सभी कहते हैं कश्मीर से कन्याकुमारी तक भारत एक है लेकिन कश्मीर कहीं न कहीं हमसे अलग था। एक देश में दो विधान, दो निशान, दो प्रधान नहीं चलेंगे के नारे हम लगाते रहे और इस वर्ष का अगस्त माह हम सभी के लिए एक बड़ी सौगात लेकर आया। देश के महानायक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने वह करिश्मा करके दिखाया। अब कश्मीर में भी भारत का कानून चलेगा।
                          सांसद श्री दरबार ने कहा कि मोदी जी ने मुखर्जी के सपने को साकार किया। आजादी के बाद ऐतिहासिक निर्णय किया। भारतीय जनता पार्टी ने ने जो घोषणा पत्र किया है वह है भारत माता को परम वैभव को ले जाना है। राष्ट्र को परम वैभव की ओर ले जाने के लिए मोदी जी के कदम आगे बढ़ रहे है । मोदी जी एक और अवतारी पुरुष है। भारत के संविधान के साथ धोखा हुआ था। मोदी जी और अमित शाह की जोड़ी ने इस धारा को हटाकर देश वासियों को सीधे कश्मीर से जोड़ दिया। अब देश के व्यापारी, उद्योगपति वहां जमीन लेकर उद्योग लगाकर वहां की बेरोजगारी को भी दूर करेंगे। जिससे कश्मीर की तरक्की के रास्ते भी खुलेंगे। 
विधायक श्रीमति वर्मा ने कहा कि जहां हुए बलिदान मुखर्जी वह कश्मीर हमारा है नारा था लेकिन अब उस नारे ने सार्थकता ले ली है। भारत को अखंड बनाने का काम मोदी जी ने का गौरव बढ़ाया है। सैनिकों को सम्मान दिलाया है।
           कार्यक्रम का संचालन श्याम नायक ने किया एवं आभार नगर अध्यक्ष अनिल  जैन बाबा ने माना।कार्यक्रम में शहर के गणमान्यजनों के साथ पार्टी के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment