HelloDharNews

HelloDharNews Hindi news Website, Daily Public News, political, crime,filmy, Media News,Helth News

Breaking

Monday, 5 August 2019

माण्डू को विश्व पटल पर लाने के हरसंभव प्रयास किए जाऐंगे - मंत्री सुरेन्द्रसिंह बघेल

माण्डू को विश्व पटल पर लाने के हरसंभव प्रयास किए जाऐंगे -  मंत्री सुरेन्द्रसिंह बघेल 

माण्डव डोजियर एवं कॉफी टेबल बुक विमाचेन समारोह का विधिवत् शुभारम्भ 

संजय शर्मा संपादक 
हैलो धार पत्रिका 
               धार - माण्डव एक ऐतिहासिक धरोहर है। इस धरोहर को मध्यप्रदेश ही नहीं बल्कि देश व विश्व पटल पर ले जाना चाहते है। इस मेहनत को हम बेकार नही जाने देंगे। माण्डव के इतिहास के संबंध में पढ़ना, चर्चा करना आपकों इस डोजियर का समझना होगा और गहराईयों तक जाना होगा। माण्डव के लोगों को रोजगार मिलना चाहिएं। यह डोजियर यूनेस्कों में जाएंगा, तो भविष्य में इसके अच्छे परिणाम आऐंगे। परिणाम स्वरूप माण्डव की कच्ची दुकाने पक्की होगी।
                यह उद्गार प्रदेश के नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण एवं पर्यटन विकास मंत्री  सुरेन्द्रसिंह बघेल ने माण्डव में स्थित चतुर्भुज श्रीराम मंदिर के सभागृह में आयोजित माण्डव डोजियर एवं कॉफी टेबल बुक विमोचन समारोह में व्यक्त किए।
      बघेल ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी चाहते है कि माण्डव में मंत्री मण्डल की बैठक रखी जाएं। जिससे माण्डव की पहचान बढ़ सके। मध्यप्रदेश एक ऐसा राज्य है, जो देश को ह्दय और धड़कन है। यह प्रदेश सभी सम्पदाओं से सम्पन्न है।
                श्री बघेल ने आगे कहा कि माण्डव में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हरसंभव प्रयास किए जाऐंगे। आज का जमाना आधुनिक युग का है। माण्डव में पर्यटक एक दिन ही न रूके, बल्कि 15-20 दिन तक रूके, ऐसी परिस्थितियां व व्यवस्थाएं की जाएं। माण्डू पहुंचने के मार्गो के मानचित्र का विभिन्न नगरों तथा प्रमुख स्थानों पर प्रदर्षन किया जाना चाहिएं, ताकि पर्यटक को माण्डू पहुंचने में और अधिक सुविधा होगी तथा माण्डव ख्याति में भी वृद्धि होगी। श्री बघेल ने कहा कि लोग पर्यटन विभाग से जुड़ेंगे, तो उन्हें रोजगार मिलेगा। बघेल ने कहा कि हम शीघ्र ही माण्डव के लिए इन्वेस्टर समिट के लिए प्रयास कर रहे है। विश्व विरासत की सूची में दिल्ली, जयपुर भी प्रयास में है, किन्तु मध्यप्रदेश के धार जिले के माण्डव के लिए पूरी कोशिश की जा रही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ जी स्वयं मुम्बई जाकर टाटा-बिरला और अन्य होटल समूह के लोगों से चर्चा कर यहॉं पर्यटन को विकसित करने के लिए योजना बनाने की पहल करेंगे। इस क्षेत्र के विकास के लिए विशेष ध्यान दिया जा रहा है। माण्डव में किसी भी तरह के विस्थापन नही होगा और इस विश्व धरोहर के कारण माण्डव का विकास होगा। यहॉं पर्यटक बढ़ेंगे, तो स्थानीय जरूरतमंद लोगों को रोजगार भी उपलब्ध होगा।
                  श्री बघेल ने कहा कि नर्मदा विकास प्राधिकरण के माध्यम से माण्डव को बहुत कुछ विकसित किया जा सकता है। नर्मदा नदी से माण्डव में पानी ला सकते है। एनव्हीडीए के माध्यम से एक बहुत बड़ी योजना ला रहे है। जिससे जलाशयों को जोड़ा जाएगा ताकि इन जलाशयों में वर्ष भर पानी उपलब्ध रहेगा। श्री बघेल ने माण्डव में रोजगार के लिए विभिन्न गतिविधियां चलाई जाएं।
               क्षेत्रीय विधायक  पांचीलाल मेडा ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि माण्डव की धरोहर को बचाने के लिए पूर्व कलेक्टर श्री दीपक सिंह व पर्यटन मंत्री  सुरेन्द्रसिंह बघेल के प्रयासों के कारण माण्डव की विश्व स्तर पर पहचान होगी। माण्डव की धरोहर को बचाने तथा इस नगर को सुन्दर बनाने के लिए हम सब प्रयास कर रहे है। श्री मेडा ने कहा कि माण्डव में कुंए, बावड़ी और तालाबों में पानी की उपलब्धता बढ़ाने के लिए स्त्रोत खोजने की पहल कर रहे है। 
                        कलेक्टर  श्रीकांत बनोठ ने अपने स्वागत दिया और कार्यक्रम के मुख्य उद्देश पर विस्तार से जानकारी दी। श्री बनोठ ने कहा कि माण्डव डोजियर एवं कॉफी टेबल बुक बहुत सुन्दर है। इसमें अच्छे फोटो लिए गए है। माण्डू के बारे में यह बहुत अच्छा संकलन शामिल किया गया है। जैसे माण्डव का मानव जीवन, संस्कृति, कला, वास्तुशिल्य, मौसम विज्ञान, पदार्थ विज्ञान, जल, अभियांत्रिकी, निर्माण प्रौद्योगिकी आदि खूबियां देखने को मिलती है।
              श्री बनोठ ने कहा कि जिले में जल प्रबंधन मिशन, रूफ वाटर हार्वेस्टिंग के कार्य किए जा रहे है। जल शक्ति अभियान के तहत जिले के चार विकासखण्डों को लिया गया है। इन विकासखण्डों में जल स्तर नीचे है। इन विकासखण्डों में जल प्रबंधन के कार्य किए जा रहे है। माण्डू का इतिहास अपने आप में एक अनूठा है। यूनेस्कों में जाने के बाद यहॉं के पर्यटन व्यवसाय की वृद्धि होगी और यहॉं के जरूरतमंद लोगों को रोजगार उपलब्ध होगा।
                     उप सचिव एवं पूर्व कलेक्टर धार   दीपक सिंह ने कहा कि माण्डू एक ऐसी जगह है, जो शासकीय कार्य के अलावा और बहुत कुछ कर सकते है। माण्डू हमेशा सरताज की तरह रहा है। पर्यटक स्थल पर मिलना बहुत मुश्किल होता है। माण्डू का नाम यूनेस्कों की ओर जा सकेंगा। पुराने कुएं, बावड़ी, तालाब के जीर्णोद्वार के लिए प्रस्ताव राज्य शासन को भेजा गया है। यह प्रस्ताव राज्य स्तर पर लंबित है। श्री सिंह ने अपेक्षा करते हुए कहा कि पर्यटन मंत्री जी व कलेक्टर इस कार्य को पूर्ण कराने में प्रयास करेगे। 
                     इस समारोह में माण्डव डोजियर के संबंध में विशेषज्ञों में  अरूण राजपुत, वरिष्ठ पत्रकार  प्रेम विजय पाटील, मॉडल कॉफी टेबल बुक के संदर्भ में  राहुल जैन, डॉ  दीपेन्द्र शर्मा तथा नाथु फाउण्डेशन ने भी अपने विचार रखे। मुख्य अतिथि श्री बघेल द्वारा डोजियर निर्माण में सहभागी व्यक्तियों का तथा माण्डव कॉफी टेबल बुक में सहभागियों का शाल, प्रमाण पत्र, स्मृति चिन्ह व पुष्पमाला से सम्मानित किया। 
                     मुख्य अतिथि बघेल ने माण्डव डोजियर तथा माण्डव कॉफी टेबल बुक का विमोचन किया। मुख्य अतिथि द्वारा पत्रकारों, फोटोग्राफर का भी शाल व पुष्पमाला से सम्मानित किया।  बघेल ने पूर्व कलेक्टर धार दीपक सिंह को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया।
                  इस समारोह में महामंडलेश्वर संत नरसिंह दास महाराज जी , जनाब हाजी  मुजिब कुरेशी, नगर परिषद मांडू की अध्यक्ष श्रीमती मालती गावर, पुलिस अधीक्षक  आदित्य प्रताप सिंह, वन मण्डलाधिकारी एस.के. सागर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत संतोष वर्मा, सहायक आयुक्त जनजातिय कार्य विभाग श्री ब्रजेशचन्द्र पाण्डेय, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व धार वीरेन्द्र कटारे, पर्यटन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, गणमान्य नागरिक, पत्रकारगण मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन  प्रवीण शर्मा ने किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में कलेक्टर  बनोठ ने अतिथियों का बुके भेंट कर आत्मीय स्वागत किया।

No comments:

Post a Comment